Do not search for treatment on Google | गूगल पर इलाज के बारे सर्च ना करें - Today India News

Today India NewsHeader Ads

Do not search for treatment on Google | गूगल पर इलाज के बारे सर्च ना करें



Do not search for treatment on Google, गूगल पर इलाज के बारे सर्च ना करें, Todey India News गूगल पर क्या सर्च न करें, गूगल पर क्या-क्या सर्च नहीं करना चाहिए, गूगल सर्च करें, गूगल देख कर डाक्टर ना बनें, गूगल डॉक्टर बनना हो सकता है खतरनाक
Do not search for treatment on Google | गूगल पर इलाज के बारे सर्च ना करें

हर छोटी-छोटी बात कर गूगल सर्च करने वालों से हम कहना चाहेंगे. सेकेंडों में जबाव देने वाला गूगल हमेशा सही होता है ऐसा नहीं है. खास कर डाॅक्टरी के मामले में. अनेक लोग गूगल सर्च कर बीमारी का इलाज ढ़ुढ़ते हैं. उसे अपनाने भी लगते हैं. सावधान रहे गूगल हमेशा सही नहीं होता. गूगल की सलाह पर किया गया इलाज कभी-कभी खतरनाक या जान लेवा भी हो सकता है.

केस नं. 1 Case no. 1
अकबर उम्र 30 वर्ष, एक प्रायवेट कंपनी में नौकरी करते है. पिछले कुछ समय से पेट के दर्द से परेशान है. डाक्टर से कई बार आइमेंट लेने के बाद भी समय के अभाव के कारण नहीं पहुंच पाएं. इस बीच उन्हें गूगल  पर अपनी के अनुसार इसका इलाज ढ़ुंढ़नी शुरू की.

गूगल पर उन्हें ढ़ेर सारे इलाज मिल गए और उन्होंने उसके अनुसार अपना इलाज करना शुरू कर दिया. परिणाम उलटा निकला. मर्ज बढ़ता गया जो जो इलाज की स्थिति बन गई.


दवाइयों के कुछ साइड इफैक्ट भी दिखायी देने लगे. आखिर में परेशान होकर स्थानीय अस्पताल में भर्ती होना पड़ा. बड़ी रकम खर्च करने के बाद उन्हें आराम मिला.

केस नं. 2 Case no. 2
नेहा ने अपनी कुछ हेल्थ के लक्षण देख कर गूगल पर इस बारे में सर्च किया. कुछ आर्टिकल्स पढ़ कर उसे लगा. फाइब्रॉयड यानी बच्चेदानी में रसौली की शिकायत है.  नेहा घबरा गई उसने अपने पति को सारी बात बतायी.

अगले ही दिन स्पेशलिस्ट से मिले. उन्होंने कुछ टेस्ट करने के लिए कहा. रिपोर्ट आने पर वह निगेटिव निकला. इस पर नेहा को खुश होना था पर वह डिप्रेशन में चली गई. इससे बाहर निकलने में उसे चार-पांच माह का समय लगा. .

Read this :- cyber crime : Beware of online offers | ऑनलाइन ऑफर से सावधान

केस नं. 3  Case no. 3
राजेश एक मल्टीनेशनल कंपनी में एक्जीकेटिव है. अपनी कार्यक्षमता को बढ़ाने के लिए गूगल पर जानकारी सर्च की. उन्हें कुछ दवाओं के बारे esa जानकारी मिली. उन्होंने दवाईयों का आर्डर दे दिया.

दवाईयां का सेवन करने के बाद उन्हें हाथ-पैरों में कंपन, थकावट आदि शुरू हो गई. स्थानीय डाक्टर से चेकअप करवाने के बाद पता चला जो दवा का सेवन कर रहे है. वह स्टेराॅयड युक्त दवा थी जिसकी वज़ह से उन्हें यह प्राब्लम शुरू हो गई थी.

कुछ हुआ नहीं कि लोग गुगल बाब से सलाह लेने लगते हैं. गूगल पर सेहत की सलाह लेना खतरनाक कभी-कभी जानलेवा भी हो सकता है. किसी भी तरह की जानकारी हासिल करने के लिए गूगल पर सर्च करना आम बात हो गई है.

Read this :- Crime Story in Hindi | जीजा बनने के पहले साले का किया कत्ल

शहर के लोग हो या गांव के जरा-जरा सी बात के लिए गूगल की मदद ली जाती हे. कई तरीकी की जानकारी गूगल सर्च करना परेशानदायक हो सकता है. इस बारे में अधिक जानकारी के लिए गूगल पर भूल कर भी सर्च ना करे. आर्टिकल्स पढ़ सकते हैं.

यहां हम गूगल पर हेल्थ संबंधित जानकारी और उसके समाधान के उपाय को आजमाना उस पर विश्वास करना परेशानी का सबब बन सकता है.

आज लोग गूगल पर काफी भरोसा करने लगे हैं. एक दूसरे पर बहस होने पर उस बात के समाधान के लिए गूगल सर्च करने की बात करते हैं. यह सच है कि गूगल पर आज हर चीज़ों का समाधान उपलब्ध है.

चुटकियों में इसका समाधान भी मिल जाता है. पर इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि क्या गूगल द्वारा दिया गया समाधान सही है या नहीं.

Read this :- Hindi Crime Story : दसवीं पास युवक के शोभराज बनने की रोमांचक कथा

गूगल ट्रीटमेंट किस तरह से हेल्थ के लिए नुकसानदायक हो सकता है. इस बारे में अच्छे से समझते हैं.
हेल्थ के प्रति लोगों अधिक जागरूक होने की वजह से लोग सेहत संबंधी हर छोटी-छोटी बातों के लिए  गूगल पर हेल्थ के बारे में जानकारी लेने के लिए हेल्थ से संबंधित वेबसाइड पर सर्च करते है.

देखा यह गया है लोग बीमार के नाम या लक्षण के आधार पर इस बारे में जानकारी सर्च करते हैं. इन लक्षण को सर्च करने पर अनेक बार खतरनाक बीमारियों से लक्षण से मेल खा जाते हैं.

वैसे तो यह लक्षण होते है, पर कभी-कभी इन्हें पढ़ कर घबरा जाते है फिर उनके बताए उपाय भी आजमाने लगते हैं. ऐसे में कई बार दूसरे तरह की बीमारी का शिकार हो जाते हैं.

डाक्टर विमल सरकार का कहना है, गूगल पर हेल्थ के बारे में जानकारी लेना गलत नहीं है. इसके लिए हमेशा समझदारी से काम लेना चाहिए.

डा. राहुल मोदी का कहना है, पिछले कुछ से मैं देख रहा हूॅ. जो मरीज आते हैं, वे पहले से ही बीमारी के बारे में गूगल सर्च कर चुके होते हैं. बीमारी के बारे में जानकारी हासिल करना अच्छी बात है.


इससे मरीज को उसकी बीमारी के बारे में अच्छी तरह समझा सकते है. परेशानी उस वक्त आती है जब मरीज गूगल डाक्टर की सलाह पर खुद दवा ले चुका होता है.

एमडी मेडिसीन डा. रूपेश श्रीवास्तव का कहना है, गूगल सर्च कर लोग खुद को बीमार मान लेते हैं. उनकी रिर्पोट निगेटिव होने पर खुश होने की बजाए तनाव में आ जाते हैं. उन्हें यह जान लेना चाहिए, गूगल मैप की मदद लेने पर कई बार गलत रास्ता भी बता देता  है. ठीक उसी तरह हेल्थ के संबंध में भी हो सकता है.

जरूरी टिप्स Important tips
गूगल पर हेल्थ के बारे में जानकारी लेना अच्छी बात है, पर इस बात का ध्यान रखें, यदि आप किसी बीमारी से पीड़ित नहीं है तो बीमारी के किसी भी लक्षण को अपने अंदर तलाश न करें.

Read this :- crime mystery : मां ने दी बेटे की कत्ल की सुपाड़ी

गूगल की सलाह पर किसी भी तरह का ट्रीटमेंट शुरू ना करें. इसके लिए अपने डाक्टर की सलाह लें.

गूगल पर किसी भी बीमारी के बार में दी गई जानकारी पूरी तरह से सही हो. यह कहा नहीं जा सकता. कई बार बड़ी और छोटी बीमारी के लक्षण एक जैसे भी होते हैं. ऐसे में हर बार खुद को बड़ी बीमारी से पीड़ित ना मान लें. (केस स्टडी में बताएं गए नाम बदल दिए गए है.) (Copyright - Todey India News

See this videos :- Gum to is baat ka hai | Dard Shayari #1 | Status Guru Hindi

Web Title : Todey India News : Do not search for treatment on Google | गूगल पर इलाज के बारे सर्च ना करें

Todey India News - लेटेस्ट क्राइम स्टोरी हिन्दी में नियमित प्रकाशित. ऐसे ही रोचक-रोमांचक क्राइम स्टोरी पढ़ने के लिए ब्लाग के ऊपर साइड में बनें follow के बटन पर क्लिक करें. Today and tomorrow 24 NEWS. स्टोरी पसंद आने पर इसे facebook, twitter, whatsapp  पर जरूर शेयर करें.

इन्हें भी जरूर पढ़ें - 
Theme images by Jason Morrow. Powered by Blogger.